जिले के सभी प्रखंडों में कालाजार खात्में के लिए छिड़काव की हुई शुरुआत

जिले के सभी प्रखंडों में कालाजार खात्में के लिए छिड़काव की हुई शुरुआत

मुजफ्फरपुर। कालाजार बीमारी से बचाव के लिए जिले के सभी प्रखंडों में सिंथेटिक पाइरोथाइराइड के छिड़काव की शुरुआत हो चुकी है। छिड़काव की शुरुआत मंगलवार को कुढ़नी प्रखंड से शुरु हुई थी। बुधवार को जिले के बाकी प्रखंडों में भी छिड़काव शुरु कर दिया गया है। जिला भेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ सतीश कुमार ने बताया कि कालाजार से बचाव के लिए एसपी पाउडर का छिड़काव जिले में 60 दिनों तक किया जाएगा। इस छिड़काव को लगभग 521 गांवों में कराया जाएगा। इस कार्य के लिए कुल110 टीम का गठन किया गया है। प्रत्येक टीम में छह मेंबर होते हैं जिसमें एसडब्ल्यूएफ सभी कार्यों के पर्यवेक्षण समेत छिड़काव किए गये घरों में जरुरी सुझाव भी देते हैं।

वेक्टर रोग नियंत्रण पदाधिकारी पुरुषोत्तम कुमार ने कहा कि अभी जिले में कुल कालाजार मरीजों की संख्या 120 है वहीं वीएल मरीजों की संख्या 9 है। अभी कालाजार मुक्त होने का नियम यह है कि प्रत्येक 1000 की आबादी पर एक या उससे भी कम मरीज हों कालाजार रोगियों की खोज के लिए 25 अगस्त से 2 सितंबर तक कालाजार रोगी खोज अभियान भी चला है। जिसमे 20 सस्पेक्ट में 2 लोग कालाजार से प्रभावित पाए गए थे।

छिड़कावकर्मियों को मिलेगा पीपीई किट-डॉ सतीश ने कहा कि कोरोना के मद्देनजर कालाजार में लगे छिड़कावकर्मियों को गुरुवार तक पीपीई किट उपलब्ध करा दिया जाएगा। पहले ही विभाग की तरफ से उन्हें मास्क तथा ग्ल्ब्स उपलब्ध करा दिया गया है।

कालाजार के लक्षण-रुक-रुक कर बुखार आना, भूख कम लगना, शरीर में पीलापन और वजन घटना, तिल्ली और लिवर का आकार बढ़ना, त्वचा-सूखी, पतली और होना और बाल झड़ना कालाजार के मुख्य लक्षण हैं। इससे पीड़ित होने पर शरीर में तेजी से खून की कमी होने लगती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!