जिले में राष्ट्रीय दस्त नियंत्रण पखवारा शुरू,घर-घर जाकर अभियान चलाएंगी आशा

जिले में राष्ट्रीय दस्त नियंत्रण पखवारा शुरू,घर-घर जाकर अभियान चलाएंगी आशा

सीतामढ़ी। जिले में राष्ट्रीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम एवं सघन दस्त नियंत्रण पखवारा शुरू हो गया है। सिविल सर्जन डॉ राकेश चंद्र सहाय वर्मा, एसीएमओ डॉ सुरेंद्र कुमार चौधरी और जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ एके झा ने मंगलवार को इस अभियान का शुभारंभ किया। मौके पर डब्ल्यूएचओ के एसएमओ, यूनिसेफ के एसएमसी, केयर डिटीएल मानस कुमार, डीटीओ पिरामल आदि मौजूद थे। डॉ झा ने बताया कि यह अभियान 16 से 29 सितंबर तक चलेगा।  सभी सीएचसी और पीएचसी स्तर पर अभियान चलाकर दस्त से होने वाली शिशु मृत्यु को शून्य स्तर तक लाने के लक्ष्य को हासिल करना है।

राज्य स्वास्थ्य समिति ने इसको लेकर दिशा निर्देश दिए हैं। जिले के सभी प्रखंडों एवं शहरी क्षेत्र में आशा को अभियान की सफलता की जिम्मवारी दी गई है। वे अपने -अपने पोषक क्षेत्र में घर-घर जाकर एल्बेंडाजोल की गोली 1 वर्ष से 19 वर्ष तक के बच्चों एवं किशोर- किशोरियों को खिलाएंगीं। साथ ही जिस घर में 5 वर्ष तक का बच्चा होगा, वहां एक पैकेट ओआरएस का वितरण एवं डायरिया ग्रस्त बच्चों को जिंक की गोली देंगी।

गांव-कस्बे और शहरी झुग्गी-झोपड़ियों में चलेगा सघन अभियान :डॉ एके झा ने बताया कि राज्य स्वास्थ्य समिति के दिशा निर्देश के मुताबिक पखवारे के दौरान शहरी, झुग्गी-झोंपड़ी, कठिन पहुंच वाले क्षेत्र, बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र, निर्माण कार्य में लगे मजदूरों के परिवार, ईंट भट्‌टे वाले क्षेत्र, अनाथालय व दस्त होने के मुख्य कारण :डॉ झा के मुताबिक दस्त होने का सबसे आम कारण एक विषाणु है, जिसका नाम है रोटावायरस। यह विषाणु अंतड़ियों को संक्रमित करता है, जिससे गैस्ट्रोएन्टेराइटिस होता है। यह आंत की अंदरूनी परत को क्षति पहुंचाता है। इस क्षतिग्रस्त परत से तरल पदार्थ का रिसाव होता है और पोषक तत्वों का समाहन किए बिना भोजन इसमें से निकल जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!